यूपी 69000 शिक्षक भर्ती: पूछे गए प्रश्नों पर 21 हजार आपत्तियां

69 हजार सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए हुई लिखित परीक्षा में पूछे गए 150 में से 142 प्रश्नों पर अभ्यर्थियों ने आपत्तियां दर्ज कराई हैं। महज आठ प्रश्न ऐसे हैं, जिस पर कोई आपत्ति नहीं हुई है। वहीं नौ प्रश्न ऐसे हैं, जिन पर एक-दो नहीं बल्कि हजारों आपत्तियां दाखिल की गई हैं।

परीक्षा नियामक प्राधिकारी दफ्तर अब विशेषज्ञों की कमेटी गठित कर आपत्तियों के साथ दिए गए साक्ष्य की जांच कराएगा। इससे यह जानकारी हो सकेगी की आपत्तियों के साथ जो साक्ष्य लगाए गए हैं, वह सही हैं या परीक्षा नियामक प्राधिकारी दफ्तर की ओर से जारी किया गया उत्तर। विशेषज्ञों की रिपोर्ट के अनुसार उत्तर कुंजी को संशोधित करते हुए 19 जनवरी को संशोधित उत्तर कुंजी जारी की जाएगी। बता दें कि 69000 शिक्षकों की भर्ती के लिए लिखित परीक्षा छह जनवरी को आयोजित की गई थी।

जिन नौ प्रश्नों पर सर्वाधिक आपत्तियां हुई हैं, उनमें एक प्रश्न संविधान सभा के पहले अध्यक्ष को लेकर है। अभ्यर्थियों का कहना है कि विभिन्न आयोगों द्वारा भी यह प्रश्न पूछा गया था, जिसमें इसका सही उत्तर राजेंद्र प्रसाद बताया गया था। परिषदीय किताबों में भी यही उत्तर दिया गया है। श्वांस रुध्र का प्रयोग श्वांस के तौर पर कौन करता है? भारत में गरीबी निर्धारण का पैमाना क्या है?, नाथ संप्रदाय के प्रवर्तक को लेकर पूछे गए प्रश्न पर भी सबसे ज्यादा आपत्तियां हुई हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *